सदियों पुराना शहर

पटना को प्राचीन काल में पाटलिपुत्र के नाम से जाना जाता था.  यह शहर 2500 साल से भी ज्यादा पुराना है,

सबसे पुराने  बसे शहरों में से एक 

पटना दुनिया के उन सबसे पुराने शहरों में से एक है, जहां आज भी लगातार बस्ती पाई जाती है. 

चाणक्य और आर्यभट्ट की कर्मभूमि 

पटना को महान कूटनीतिज्ञ चाणक्य और प्रसिद्ध खगोलशास्त्री आर्यभट्ट की कर्मभूमि होने का गौरव प्राप्त है. माना जाता है कि ये दोनों महान विभूतियाँ यहीं रहकर ज्ञान और विद्या का प्रसार करती थीं. 

गुरु गोबिंद सिंह की जन्मस्थली 

पटना सिखों के दसवें गुरु, गुरु गोबिंद सिंह जी की जन्मस्थली है.  यहां स्थित पटना साहिब गुरुद्वारा सिखों के सबसे पवित्र धार्मिक स्थलों में से एक माना जाता है 

गोलघर: अनाज का किला  

पटना में स्थित गोलघर एक विशाल अनाज भंडार है, जिसे अंग्रेजों द्वारा बनवाया गया था.  

पान का दीवाना शहर 

पटना को पान (Betel Leaf) के प्रेमियों का शहर भी कहा जाता है. 

दीपावली का अनोखा उत्सव 

पटना में दीपावली के पांचवे दिन छठ पूजा (Chhath Puja) का बहुत धूमधाम से आयोजन किया जाता है.  

कला और शिल्प का खजाना 

बिहार अपनी खूबसूरत पेंटिंग्स, मधुबनी कला और मूर्तियों के लिए जाना जाता है.